बशीर बद्र शायरी – सर झुकाओगे तो पत्थर देवता

सर झुकाओगे तो पत्थर देवता हो जाएगा
इतना मत चाहो उसे वो बेवफ़ा हो जाएगा – बशीर बद्र