बशीर बद्र शायरी – हर धड़कते पत्थर को लोग

हर धड़कते पत्थर को लोग दिल समझते हैं
उम्रें बीत जाती हैं दिल को दिल बनाने में – बशीर बद्र