मजरूह सुल्तानपुरी शायरी – बहाने और भी होते जो

बहाने और भी होते जो ज़िंदगी के लिए
हम एक बार तेरी आरज़ू भी खो देते – मजरूह सुल्तानपुरी