महेन्द्र सिंह बेदी सहर शायरी – मुस्कुराना कभी न रास आया

मुस्कुराना कभी न रास आया
हर हँसी एक वारदात बनी – महेन्द्र सिंह बेदी सहर