महेन्द्र सिंह बेदी सहर शायरी – दैर ओ हरम में चैन

दैर ओ हरम में चैन जो मिलता
क्यूँ जाते मय-ख़ाने लोग – महेन्द्र सिंह बेदी सहर