माधव राम जौहर शायरी – ज़र्रा समझ के यूँ न

ज़र्रा समझ के यूँ न मिला मुझ को ख़ाक में
ऐ आसमान मैं भी कभी आफ़्ताब था – माधव राम जौहर