मिर्ज़ा ग़ालिब शायरी – कौन है जो नहीं है

कौन है जो नहीं है हाजत-मंद,,
किसकी हाजत रवा करे कोई! – मिर्ज़ा ग़ालिब