Arz Kiya Hai 4 U

Best Hindi Sher O Shayari Collection

मिर्ज़ा ग़ालिब शायरी – सँभलने दे मुझे ऐ ना-उम्मीदी

सँभलने दे मुझे ऐ ना-उम्मीदी क्या क़यामत है
कि दामान-ए-ख़याल-ए-यार छूटा जाए है मुझ से! – मिर्ज़ा ग़ालिब

Updated: December 16, 2018 — 6:25 pm
loading...
Arj Kiya Hai 4 U © 2017