मिर्ज़ा ग़ालिब शायरी – हम है मुश्ताक़ और वो

हम है मुश्ताक़ और वो बेज़ार
या इलाही ये माज़रा क्या है । – मिर्ज़ा ग़ालिब