मीर तक़ी मीर शायरी – अब तो जाते हैं बुत-कदे

अब तो जाते हैं बुत-कदे से ‘मीर’
फिर मिलेंगे अगर ख़ुदा लाया – मीर तक़ी मीर