मीर तक़ी मीर शायरी – नाज़ुकी उस के लब की

नाज़ुकी उस के लब की क्या कहिए
पंखुड़ी इक गुलाब की सी है – मीर तक़ी मीर