मीर तक़ी मीर शायरी – ‘मीर’ उन नीम-बाज़ आँखों में

‘मीर’ उन नीम-बाज़ आँखों में
सारी मस्ती शराब की सी है – मीर तक़ी मीर