मीर तक़ी मीर शायरी – हम हुए तुम हुए कि

हम हुए तुम हुए कि ‘मीर’ हुए
उस की ज़ुल्फ़ों के सब असीर हुए! – मीर तक़ी मीर