मुनव्वर राना शायरी – झुक के मिलते हैं बुजुर्गों

झुक के मिलते हैं बुजुर्गों से हमारे बच्चे
फूल पर बाग़ की मिट्टी का असर आता है – मुनव्वर राना