मोमिन ख़ाँ मोमिन शायरी – उसने क्या जाने क्या किया

उसने क्या जाने क्या किया लेकर,
दिल किसी काम का नहीं होता । – मोमिन ख़ाँ मोमिन