मोमिन ख़ाँ मोमिन शायरी – तुम हमारे किसी तरह न

तुम हमारे किसी तरह न हुए
वर्ना दुनिया में क्या नहीं होता – मोमिन ख़ाँ मोमिन