मोमिन ख़ाँ मोमिन शायरी – वो जो हममें तुममें क़रार

वो जो हममें तुममें क़रार था तुम्हें याद हो कि न याद हो
वही यानी वअ्दा निबाह का तुम्हें याद हो कि न याद हो – मोमिन ख़ाँ मोमिन