वसीम बरेलवी शायरी – आँधियों के इरादे तो अच्छे

आँधियों के इरादे तो अच्छे न थे,
ये दिया कैसे जलता हुआ रह गया। – वसीम बरेलवी