वसीम बरेलवी शायरी – आप रूठें झुनझुलाये या खफा

आप रूठें, झुनझुलाये, या खफा हो जायें
बात इतनी भी न बिगड़े कि जुदा हो जायें – वसीम बरेलवी