वसीम बरेलवी शायरी – ऐसे रिश्ते का भरम रखना

ऐसे रिश्ते का भरम रखना कोई खेल नहीं
तेरा होना भी नहीं और तेरा कहलाना भी – वसीम बरेलवी