वसीम बरेलवी शायरी – क़हक़हा आँख का बर्ताव बदल

क़हक़हा आँख का बर्ताव बदल देता है
हँसने वाले तुझे आँसू नज़र आये कैसे । – वसीम बरेलवी