वसीम बरेलवी शायरी – खुली छतों के दिए कब

खुली छतों के दिए कब के बुझ गए होते
कोई तो है जो हवाओं के पर कतरता है – वसीम बरेलवी