वसीम बरेलवी शायरी – ग़म और होता सुन के

ग़म और होता सुन के गर आते न वो ‘वसीम’
अच्छा है मेरे हाल की उन को ख़बर नहीं – वसीम बरेलवी