वसीम बरेलवी शायरी – घर सजाने का तसव्वुर तो

घर सजाने का तसव्वुर तो बहुत बाद का है..
पहले ये तय हो कि इस घर को बचाएं कैसे.. – वसीम बरेलवी