वसीम बरेलवी शायरी – चाहे जितना भी बिगड़ जाये

चाहे जितना भी बिगड़ जाये ज़माने का चलन,
झूठ से हारते देखा नहीं सच्चाई को – वसीम बरेलवी