Arz Kiya Hai 4 U

Best Hindi Sher O Shayari Collection

वसीम बरेलवी शायरी – जो मुझ में तुझ में

जो मुझ में तुझ में चला आ रहा है बरसों से
कहीं हयात इसी फ़ासले का नाम न हो – वसीम बरेलवी

Updated: April 5, 2017 — 2:00 pm
loading...
Arj Kiya Hai 4 U © 2017