वसीम बरेलवी शायरी – जो मुझ में तुझ में

जो मुझ में तुझ में चला आ रहा है बरसों से
कहीं हयात इसी फ़ासले का नाम न हो – वसीम बरेलवी