वसीम बरेलवी शायरी – तूने भी क्या

तूने भी क्या लाज रखी मिरी गुमराही की
कि मैं भटकूँ तो भटककर भी तुझ तक ही पहुँचूं…! – वसीम बरेलवी