वसीम बरेलवी शायरी – मंज़िल समझ के बैठ गये

मंज़िल समझ के बैठ गये जिसको चंद लोग
मै ऐसे रास्तों से गुज़रता चला गया – वसीम बरेलवी