वसीम बरेलवी शायरी – यह सच है की मुद्दत

यह सच है की मुद्दत से अंधेरों में घिरा हूँ,
फिर भी मैं अंधेरों के असर में नहीं रहता – वसीम बरेलवी