वसीम बरेलवी शायरी – शाम तक सुबहा कि नज़रो

शाम तक सुबहा कि नज़रो से उतर जाते है
इतने समझौतों पे जीते है कि मर जाते है ।। – वसीम बरेलवी