शाद अज़ीमाबादी शायरी – तन्हा है चराग़ दूर परवाने

तन्हा है चराग़ दूर परवाने हैं
अपने थे जो कल आज वो बेगाने हैं – शाद अज़ीमाबादी