साग़र सिद्दीक़ी शायरी – अब कहाँ ऐसी तबीअत वाले

अब कहाँ ऐसी तबीअत वाले
चोट खा कर जो दुआ करते थे – साग़र सिद्दीक़ी