साग़र सिद्दीक़ी शायरी – ऐ अदम के मुसाफ़िरो होशियार

ऐ अदम के मुसाफ़िरो होशियार
राह में ज़िंदगी खड़ी होगी – साग़र सिद्दीक़ी