साग़र सिद्दीक़ी शायरी – रंग उड़ने लगा है फूलों

रंग उड़ने लगा है फूलों का
अब तो आ जाओ! वक़्त नाज़ुक है – साग़र सिद्दीक़ी