साहिर लुधियानवी शायरी – माना कि इस ज़मीं को

माना कि इस ज़मीं को न गुलज़ार कर सके
कुछ ख़ार कम तो कर गए गुज़रे जिधर से हम – साहिर लुधियानवी