हफ़ीज़ जालंधरी शायरी – कोई चारह नहीं दुआ के

कोई चारह नहीं दुआ के सिवा
कोई सुनता नहीं ख़ुदा के सिवा – हफ़ीज़ जालंधरी