हसरत मोहानी शायरी – एक तुम हो कि वफा

एक तुम हो कि वफा तुमसे न होगी, न हुई,
एक हम कि तकाजा न किया है, न करेंगे….!! – हसरत मोहानी