हसरत मोहानी शायरी – न असर आह में कुछ

न असर आह में कुछ है न दुआ में तासीर
तीर हम जितने चलाते हैं ख़ता होते हैं – हसरत मोहानी