हसरत मोहानी शायरी – हम क्या करें अगर न

हम क्या करें अगर न तिरी आरज़ू करें
दुनिया में और भी कोई तेरे सिवा है क्या – हसरत मोहानी