ज़फ़र इक़बाल शायरी – इश्क़ उदासी के पैग़ाम तो

इश्क़ उदासी के पैग़ाम तो लाता रहता है दिन रात
लेकिन हम को ख़ुश रहने की आदत बहुत ज़ियादा है – ज़फ़र इक़बाल