ज़फ़र इक़बाल शायरी – कब वो ज़ाहिर होगा और

कब वो ज़ाहिर होगा और हैरान कर देगा मुझे
जितनी भी मुश्किल में हूँ आसान कर देगा मुझे – ज़फ़र इक़बाल