ज़फ़र इक़बाल शायरी – किसी काम से शादमाँ होते

किसी काम से शादमाँ होते होते
किसी बात से बदगुमाँ हो गया हूँ – ज़फ़र इक़बाल