ज़फ़र इक़बाल शायरी – मेरे अंदर वो मेरे सिवा

मेरे अंदर वो मेरे सिवा कौन था
मैं तो था ही मगर दूसरा कौन था ! – ज़फ़र इक़बाल