Arz Kiya Hai 4 U

Best Hindi Sher O Shayari Collection

Month: December 2018

मिर्ज़ा ग़ालिब शायरी – कौन है जो नहीं है

कौन है जो नहीं है हाजत-मंद,,
किसकी हाजत रवा करे कोई! – मिर्ज़ा ग़ालिब

मिर्ज़ा ग़ालिब शायरी – मशरूफ रहने का अंदाज़ तुम्हें

मशरूफ रहने का अंदाज़ तुम्हें तनहा ना कर दे ‘ग़ालिब’;
रिश्ते फुर्सत के नहीं तवज्जो के मोहताज़ होते हैं। – मिर्ज़ा ग़ालिब

मिर्ज़ा ग़ालिब शायरी – बना कर फ़क़ीरों का हम

बना कर फ़क़ीरों का हम भेस ग़ालिब
तमाशा-ए-अहल-ए-करम देख़ते हैं – मिर्ज़ा ग़ालिब

loading...
Arj Kiya Hai 4 U © 2017