Arz Kiya Hai 4 U

Best Hindi Sher O Shayari Collection

Tag: क़ाबिल अजमेरी हिंदी शेर ओ शायरी

क़ाबिल अजमेरी शायरी – ऐ दौलत-ए-सुकूँ के तलब-गार देखना

ऐ दौलत-ए-सुकूँ के तलब-गार देखना
शबनम से जल गया है गुलिस्ताँ कभी कभी – क़ाबिल अजमेरी

क़ाबिल अजमेरी शायरी – उन की पलकों पर सितारे

उन की पलकों पर सितारे अपने होंटों पे हँसी
क़िस्सा-ए-ग़म कहते कहते हम कहाँ तक आ गए! – क़ाबिल अजमेरी

Arj Kiya Hai 4 U © 2017