Arz Kiya Hai 4 U

Best Hindi Sher O Shayari Collection

Tag: शाद अज़ीमाबादी हिंदी शायरी

शाद अज़ीमाबादी शायरी – अब भी इक उम्र पे

अब भी इक उम्र पे जीने का न अंदाज़ आया
ज़िंदगी छोड़ दे पीछा मिरा मैं बाज़ आया – शाद अज़ीमाबादी

शाद अज़ीमाबादी शायरी – कौन सी बात नई ऐ

कौन सी बात नई ऐ दिल-ए-नाकाम हुई
शाम से सुब्ह हुई सुब्ह से फिर शाम हुई – शाद अज़ीमाबादी

शाद अज़ीमाबादी शायरी – ढूँडोगे अगर मुल्कों मुल्कों मिलने

ढूँडोगे अगर मुल्कों मुल्कों मिलने के नहीं नायाब हैं हम
जो याद न आए भूल के फिर ऐ हम-नफ़सो वो ख़्वाब हैं हम – शाद अज़ीमाबादी

loading...
Arj Kiya Hai 4 U © 2017