अहमद फ़राज़ शायरी – यूँही मौसम की अदा देख

यूँही मौसम की अदा देख के याद आया है
किस क़दर जल्द बदल जाते हैं इंसाँ जानाँ – अहमद फ़राज़