Arz Kiya Hai 4 U

Best Hindi Sher O Shayari Collection

Tag: mirza shayari

मिर्ज़ा ग़ालिब शायरी – शहादत थी मेरी क़िस्मत में

शहादत थी मेरी क़िस्मत में जो दी थी ये ख़ू मुझ को
जहाँ तलवार को देखा झुका देता था गर्दन को – मिर्ज़ा ग़ालिब

मिर्ज़ा ग़ालिब शायरी – न लुटता दिन को तो

न लुटता दिन को तो कब रात को यूँ बेख़बर सोता
रहा खटका न चोरी का दुआ देता हूँ रहज़न को – मिर्ज़ा ग़ालिब

मिर्ज़ा ग़ालिब शायरी – की वफ़ा हम से तो

की वफ़ा हम से तो ग़ैर इस को जफ़ा कहते हैं
होती आई है कि अच्छों को बुरा कहते हैं – मिर्ज़ा ग़ालिब

मिर्ज़ा ग़ालिब शायरी – रोक लो गर

रोक लो गर ग़लत चले कोई,,
बख़्श दो गर ख़ता करे कोई! – मिर्ज़ा ग़ालिब

मिर्ज़ा ग़ालिब शायरी – उन के देखे से जो

उन के देखे से जो आ जाती है मुँह पर रौनक़
वो समझते हैं कि बीमार का हाल अच्छा है – मिर्ज़ा ग़ालिब

मिर्ज़ा ग़ालिब शायरी – बस-कि दुश्वार है हर काम

बस-कि दुश्वार है हर काम का आसाँ होना,
आदमी को भी मयस्सर नहीं इंसाँ होना…!! – मिर्ज़ा ग़ालिब

मिर्ज़ा ग़ालिब शायरी – जब *तवक़्क़ो ही उठ गई

जब *तवक़्क़ो ही उठ गई ‘ग़ालिब’,
क्यूँ किसी का गिला करे कोई! – मिर्ज़ा ग़ालिब

मिर्ज़ा ग़ालिब शायरी – क़ासिद के आते आते ख़त

क़ासिद के आते आते ख़त इक अौर लिख रखूँ
मैं जानता हूँ जो वो लिखेंगे जवाब में – मिर्ज़ा ग़ालिब

loading...
Arj Kiya Hai 4 U © 2017