क़तील शिफ़ाई शायरी – अगर वफ़ा पे भरोसा रहे

अगर वफ़ा पे भरोसा रहे न दुनिया को
तो कोई शख़्स मोहब्बत का हौसला न करे – क़तील शिफ़ाई