क़तील शिफ़ाई शायरी – रह गई थी कुछ कमी

रह गई थी कुछ कमी रूसवाइयो में
फिर “क़तील” उस दर पे जाना चाहता हूँ – क़तील शिफ़ाई